Blog

संसद के गलियारे में हुआ आमना-सामना तो मोदी जी ने पूछा “कैसे हैं राहुल जी” तो राहुल ने दिया ये जवाब…..

0

मंगलवार को रामनाथ कोविंद के रूप में देश को नया राष्ट्रपति मिल गया. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने संसद के सेंट्रल हॉल में रामनाथ कोविंद को 14वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ दिलाई. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत तमाम केंद्रीय मंत्री, बीजेपी नेता और कांग्रेस सांसद भी मौजूद थे. यहां पीएम मोदी और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के बीच दिलचस्प मुलाकात हुई.

दरअसल, रामनाथ कोविंद से पहले ही पीएम मोदी संसद भवन पहुंच चुके थे. जैसे ही रामनाथ कोविंद वहां पहुंचे पीएम मोदी अपने चैंबर से निकलकर उनका स्वागत करने गए. जिस वक्त पीएम मोदी संसद के गेट से गुजर रहे थे, उसी दौरान कॉरीडोर में उन्हें राहुल गांधी नजर आए. ये महज इत्तेफाक था दोनों नेता आमने-सामने आ गए.

पीएम मोदी ने पूछा राहुल गांधी का हाल
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जैसे ही राहुल गांधी पीएम मोदी के सामने आए, मोदी ने हाथ बढ़ाकर राहुल गांधी का हाल पूछा. पीएम ने कहा- कैसे हैं राहुल जी? इसके जवाब में राहुल गांधी ने भी पीएम का आदर करते हुए दोनों हाथ उनकी तरफ बढ़ा दिए. राहुल गांधी ने मुस्कराते हुए पीएम से कहा- सर, ठीक हूं सर.

इसके बाद पीएम मोदी और राहुल गांधी के साथ मौजूद दूसरे कांग्रेस नेताओं के बीच भी दुला-सलाम हुई. जिसके बाद पीएम मोदी रामनाथ कोविंद को रिसीव करने आगे बढ़ गए.

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

राजस्थान सरकार ने बदला हल्दीघाटी युद्ध का इतिहास, लिखा – महाराणा प्रताप ने अकबर को हराया था!

0


source
राजस्थान में बीजेपी सरकार द्वारा महाराणा प्रताप के इतिहास को बदलने की खबर फरवरी 2017 में सामने आई थी। राज्य सरकार ने अपने इस काम पर मुहर लगाते हुए महाराणा प्रताप का इतिहास बदल दिया है। “महाराणा प्रताप ने अकबर को 1576 में हल्दीघाटी की लड़ाई में हराया था”, यह जानकारी अब राजस्थान में 10वीं कक्षा के छात्रों के लिए तैयार की गई सोशल साइंस की नई किताब देगी। वहीं सिर्फ स्कूल ही नहीं बल्कि राजस्थान यूनिवर्सिटी के इतिहास विभाग ने भी कुछ बदलाव किए हैं। विभाग ने इतिहास के दो सेक्शनों के नाम में बदलाव किए हैं। विभाग ने “प्राचीन इतिहास” (600 BC- 1200AD) का नाम बदलकर “गोल्डन एरा ऑफ इंडिया” नाम दिया है और “मध्यकालीन इतिहास” (1200 AD- 1700AD) का नाम को बदलकर “स्ट्रग्लिंग इंडिया” का नाम दिया है।

बता दें महाराणा प्रताप के इतिहास को बदलने की जानकारी इसी साल की शुरुआत में आई थी। फरवरी 2017 में वसुंधरा राजे सरकार के तीन मंत्रियों ने उस प्रस्ताव का समर्थन किया था, जिसके तहत इतिहास के तथ्य बदलने की बात की गई थी। महाराणा प्रताप के हल्दीघाटी युद्ध पर फिर से चर्चा का मुद्दा उठाया गया था क्योंकि इस युद्ध के बारें में इतिहासकारों की अलग-अलग राय है। फरवरी 2017 के करीब राजस्थान विश्वविद्यालय के एक प्रोफेसर और इतिहासकार डॉक्टर चन्द्रशेखर शर्मा ने एक शोध प्रस्तुत किया था जिसके मुताबिक 18 जून 1576 ई. को हल्दीघाटी युद्ध मेवाड़ तथा मुगलों के बीच हुआ था। युद्ध के परिणाम के बारे में तरह-तरह की बाते की जाती हैं लेकिन असल में इस युद्ध में महाराणा प्रताप ने जीत हासिल की थी। डॉ. शर्मा ने विजय को दर्शाते प्रमाण राजस्थान विश्वविद्यालय में जमा कराए थे। वहीं मार्च 2017 में राज्य सरकार के अकबर के नाम के आगे से ‘महान’ शब्द हटाने की खबर सामने आई थी। राजस्थान के शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने मुगल सम्राट अकबर की तुलना ‘आतंकियों’ से की थी।

इसके अलाव गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी मई 2017 में कहा था कि महाराणा प्रताप को इतिहास में वो जगह नहीं मिली जो उन्हें मिलनी चाहिए थी। महाराणा प्रताप में ऐसी कौन-सी कमी थी। यह बात उन्होंने राज्य के पाली जिले के खारोकडा गांव में महाराणा महाराणा प्रताप की अनावरण कार्यक्रम के दौरान कही थी। राजनाथ सिंह ने कहा था कि उन्हें आश्चर्य है कि इतिहासकारों को अकबर की महानता तो नजर आई, लेकिन राजस्थान के वीर सपूत महाराणा प्रताप की महानता नजर नहीं आयी।

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

प्रणव मुखर्जी ने विदाई के वक्त पीएम मोदी के बारे में ऐसी बातें कही कि विपक्ष रह गया सन्न!

0
New Delhi: Prime Minister Narendra Modi presents a memento to President Pranab Mukherjee at the farewell hosted by him for the President at Hyderabad House , in New Delhi on Saturday. PTI Photo(PTI7_22_2017_000163B)

नई दिल्ली: रविवार को संसद भवन के सेंट्रल हॉल में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का विदाई समारोह आयोजित किया गया! इस समारोह में मोदी सरकार के साथ साथ विपक्ष के भी लगभग सभी नेता मौजूद थे! अपने विदाई समारोह को देखकर प्रणव मुखर्जी ने कहा कि ‘इस शानदार समारोह के लिए पार्लियामेंट का शुक्रिया!’ इसी के साथ प्रणव मुखर्जी ने अपने भाषण में पीएम मोदी की तारीफ़ करते हुए कहा कि ‘मैं नरेन्द्र मोदी की एनर्जी का मुरीद हूँ और उनके साथ जुड़ी अच्छी यादें लेकर जा रहा हूँ!’

प्रणव मुखर्जी इससे पहले भी पीएम मोदी की कई बार तारीफ़ कर चुके है! इससे पहले उन्होंने कहा था कि ‘ नरेंद्र मोदी ने निस्संदेह ही भारतीय अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाया है और उन्होंने विभिन्न प्रकार की पहल की हैं जिससे भारत के आगे बढ़ने का निश्चित संकेत मिला है!’ इसी के साथ आगे कहा कि ‘मोदी के कुछ निर्णय निस्संदेह युगप्रवर्तक हैं!

प्रणव मुखर्जी के विदाई समारोह में लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने सम्मान पत्र पढ़ते हुए कहा कि ‘प्रणव मुखर्जी ने आदर्शों की मिसाल पेश की है!’ इसके बाद उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कहा कि हम प्रणव मुखर्जी को प्रणव दा के रूप में ज्यादा जानते हैं! इस समारोह में केंद्र सरकार के अधिकतर सभी मंत्रियों के साथ विपक्ष के टॉप नेता भी सेंट्रल हॉल में मौजूद थे! प्रणव मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है!वे देश के 13वें राष्ट्रपति हैं! उनके बाद अब 25 जुलाई को एनडीए के रामनाथ कोविंद पद ग्रहण करेंगे!

प्रणव मुखर्जी ने अपने भाषण में कहा कि ‘अगर मैं ये दावा करूं कि मैं इस संसद का क्रिएशन हूँ तो इस बात को किसी अशिष्टता के रूप में नहीं लेना चाहिए!’ अभी मोदी सरकार में लागू हुए जीएसटी को लेकर भी प्रणव मुखर्जी ने कहा कि ‘अभी के समय में जीएसटी का सफ़र पूरा हुआ और 1 जुलाई को इसको लॉन्च किया गया, यह हमारे सहयोगी संघवाद की एक चमकती हुई मिसाल है! यह संसद की परिपक्वता के बारे में बताता है! आजकल जो आर्डिनेंस लाने का जो चलन है, उसे भी जरूरी होने पर ही अपनाया जाना चाहिए!’

इसी के साथ अपने भाषण में प्रणव मुखर्जी ने कहा कि ‘मुझे सौभाग्य मिला कि मैं देश की सेवा कर सका! इस देश में तमाम तरह के लोग एक ही संविधान को मानते हैं, यही बात इस देश की खूबसूरती है! दोनों सदनों के सांसद इस देश की जनता की आवाज बनते हैं! मैं मोदी की एनर्जी का मुरीद हूँ, उनके साथ बहुत अच्छी यादें लेकर जा रहा हूँ! इतना शानदार विदाई समारोह आयोजित करने के लिए आपका धन्यवाद! इस संसद ने एक इंसान को निखार दिया! ये संसद लोकतंत्र का मंदिर है! संविधान ने हमें कई अच्छी बातें बताई हैं! हमारा संविधान केवल एक संविधान नहीं है, बल्कि ये एक अरब से ज्यादा लोगों की आशाएं हैं!’

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

चीनी मोबाइल कंपनी oppo ने कहा “भारतीय भिखारी हैं” पंजाब टीम ने अनोखे अंदाज़ में दिया इसका मुँहतोड़ जवाब…

0

आपको आखिरी बार याद है जब स्नैपचैट सीईओ ने भारत को एक गरीब देश कहा था। कई भारतीयों ने प्लेस्टोर पर ऐप की रिपोर्टिंग समाप्त कर दी थी या इसे अनइंस्टॉल कर दिया था।

एक और ऐसी घटना फिर से हुई है। इस बार चीनी इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी ‘oppo ने विवादस्पद बयान देकर खुद को घेरे में डाल दिया है’ सुचना के मुताबिक चीनी कंपनी ने “भारत और उसकी संस्कृति का अपमान किया है” रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी के भारतीय कर्मचारियों को उनके एचओडी ने कहा कि “भारतीय भिखारी हैं”। उन्होंने यह घटिया टिप्पणी तब की जब कर्मचारियों ने वेतन में वृद्धि की मांग की थी।

यह पंजाब की सर्विस टीम के साथ अच्छा नहीं था, उन्होंने भी अपनी शैली में oppo को जवाब देने का फैसला किया। पंजाब की पूरी सर्विस टीम ने कंपनी को अपना सामूहिक इस्तीफा देने का दावा किया और उनका कहना है कि oppo ने उमके देश व संस्कर्ति का अपमान किया है ।

इस्तीफा पत्र ट्विटर पर साझा किया गया था जिसमें उल्लेख है कि oppo के एचओडी ने भारत का अपमान किया है और अपने सेवा प्रबंधक अरुण शर्मा को भी मजबूर कर रहा था।

15 जुलाई 2017 पंजाब की पूरी सर्विस टीम ने हस्ताक्षर कर अपना इस्तीफा क्षेत्र के प्रमुख डीलरों और वितरकों को भेजा।

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

VIDEO : लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने दिखाया रौद्र रूप, 6 कांग्रेसी सांसदों को फेंका संसद के बाहर !

0

कांग्रेस सरकार ने आजादी के बाद 60 सालो तक देश में राज किया, इन 60 सालो में ये देश की दसा नही सुधार सके। ना गरीबी हटा सके ना ही बेरोजगारी। देश की सुरक्षा के साथ भी कांग्रेस हमेशा खिलवाड़ करती रही। कांग्रेस राज में इतने घोटाले हुवे की गिनने मुश्किल हो जाते हैं। देश की तरक्की नही बल्कि अपनी तिजोरियां भरते रहे। सभ्यता तो छोड़िए इन्होंने हमेशा ही गुंडागर्दी की है।

लोकसभा में आज सोमवार को संसद की कार्यवाही शुरू हुई जिसमें कांग्रेस सांसदों ने भीड़ को हिंसा मुद्दे पर जमकर हंगामा काटा। हंगमा करते हुवे कांग्रेसी सांसद अपनी हदे भूल गए और लोकसभा स्पीकर की तरफ कागज़ फाड़कर फेंके। इस घटिया हरकतो के दौरान सोनिया गांधी और राहुल गांधी भी मौजूद थे लेकिन उन्होंने इसपर कुछ नही कहा। कांग्रेस सांसदों की ये हरकते बेहद ही शर्मनाक और निंदनीय है।

लेकिन अब इनको बरदास्त करने वाले नही रहे अब कार्यवाही करने वाले नेता पद पर हैं। इनकी इस शर्मनाक हरकत के बाद लोकसभा स्पीकर ने इन्हें ससपेंड कर दिया। लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने गौरव गोगोई, के सुरेश, अधीर रंजन, रंजीत रंजन, सुष्मिता देव, और ऍम के राघवन को 5 दिनों के लिए ससपेंड कर दिया। कांग्रेस सांसदों की इस हरकत के कारण सुमित्रा महाजन को बेहद ठेस लगीं।

देखें वीडियो।

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

RSS पर तेजस्वी यादव ने कसा तंज “ऐसा मंत्र मारो बेरोज़गारों को मिले नौकरी”, लोगों ने आड़े हाथो लिया!

0

भारत और चीन के बीच रिश्तों में तल्खी के बीच इंडिया टुडे में खबर प्रकाशित हुई थी। जिसमें कहा गया था कि आरएसएस एक मंत्र जाप से चीन को काबू करना चाहता है! इसके लिए उसने लोगों से गुहार लगाई कि पूजा या नमाज से पहले पांच बार इस चीन विरोधी मंत्र का जाप करें। इस पर निशाना साधते हुए तेजस्वी यादव ने अपने ट्वीट में लिखा- “प्रिय RSS, तनिक एको मंत्र ऐसा फूंको ना जिससे देश के सभी बेरोजगार युवाओं को नौकरी मिलें, गरीबी का समूल नाश हो।” तेजस्वी इससे पहले भी बीजेपी और आरएसएस पर निशाना साधते रहे हैं।

जाहिर हो अभी कुछ समय से आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद और उनके परिवार के काले कारनामो का चिट्ठा एक-एक करके जनता के सामने आ रहा है जिससे कही न कही नितीश कुमार की छवि ख़राब होती नजर आ रही है! जब से सीबीआई ने तेजस्वी यादव के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में FIR कराइ है तब से राष्ट्रीय जनता दल तिलमिलाई हुयी है तो दूसरी तरफ जनता दल यूनिटेड तेजश्वी के इस्तीफे की मांग कर रही है!

एक बात तो साफ़ है जब से तेजस्वी पर भ्रस्टाचार के आरोप लगे है तभी से राजद के नेता और विधायक बौखला गए है और उलटे सीधे वयंबाजी करते नजर आ रहे है! खूब तेजस्वी यादव भी कभी ट्विटर पर लिखते है की बीजेपी उनसे डरती है, इसलिए उनके खिलाफ सीबीआई से करवाई करवा रही है! तेजस्वी यादव बीजेपी के साथ-साथ मीडिया से भी काफी नाराज चल रहे है! तेजस्वी ने ये भी कहा था की सिर्फ उनके इस्तीफे की बात मीडिया में ही है जमीनी सचाई कुछ और ही है!

उनके इस ट्वीट पर सोशल मीडिया यूजर्स ने उनसे अपने पिता आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के कार्यकाल में कितने लोगों को नौकरी देने के बारे में पूछा है। किशन झा नाम के शख्स ने लिखा- “एक बार बाबूजी से पूछो 20 साल राज किये बिहार में, घण्टा नौकरी नही मिला किसी को, तभी तो आज हम दिल्ली में मजदूरी कर रहे हैं।” राजीव कुमार नाम के यूजर ने लिखा- “आप के बाप जो 30 साल से बिहार में हेमा मलिन के गाल के जैसा सड़क बना रहे है! और आपके पिता जी के सहयोग से पूरा बिहार दिल्ली में रिक्शा चला रहा है!”

हरमनप्रीत कौर नाम की यूजर ने लिखा- प्रिय तेजस्वी, भारत में धन और बल दोनो की कमी नही है पर आपके परिवार जैसे बड़े पेट वालो की संख्या बहुत अधिक है जिसके कारण गरीबी दिखाई पडती है।” सुमित सिन्हा ने कहा, “RSS को ज्ञान बांटे की जरूरत नहीं है।”

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

प्रशांत भूषण ने मुसलमानों को बताया आजादी का हीरो, बोले- इन हिंदुत्व वालों ने कुछ भी नहीं किया!

0

नई दिल्ली: देश के जाने-माने वकील प्रशांत भूषण जो हमेशा से खुद आतंकियों के हिमायती रहे है! अब प्रशांत भूषण ने एक बार फिर एक विवादित वयान दे दिया है उन्होंने मुसलमानो की वकालत करते हुए उन आजादी के लड़ाई का हीरो बताया है! प्रशांत भूषण ने ट्वीट कर कहा कि प्रशांत भूषण ने कहा है कि आजादी की लड़ाई में जितने भी देशभक्ति नारे और गीत थे उनमें से लगभग सारे मुसलमानों द्वारा लिखे गए थे! प्रशांत भूषण ने स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर के जन्म दिवस पर सोशल मीडिया वेबसाइट ट्विटर पर यह बात लिखी!

प्रशांत भूषण यही नहीं रुके उन्होंने हिंदूवादी संगठनों पर हिंदूवादी संगठनों ने आज़ादी के लिए कुछ नहीं किया! आपको बताते चले कि प्रशांत भूषण पहले आम आदमी पार्टी से जुड़े हुए थे लेकिन केजरीवाल द्वारा पार्टी से निकाले जाने के बाद उन्होंने योगेंद्र यादव के साथ मिलकर स्वराज इंडिया की स्थापना की और स्वराज इंडिया के लिए काम कर रहे है! प्रशांत भूषण हमेशा से हिंदुत्व और हिंदूवादी संगठनों पर निशाना साधते रहे है !

कुछ दिनों पहले प्रशांत भूषण ने उतर प्रदेश में गठित एंटी रोमिओ स्क्वाड पर हमला बोलते हुए भगवान् श्री कृष्ण का भी मजाक उड़ाया था, तब भूषण ने लिखा था कि “रोमियो ने अपने जीवन में केवल एक ही लड़की से प्यार किया, जबकि कृष्ण तो कई लड़कियों के साथ छेड़खानी करने के लिए प्रसिद्ध हैं। क्या मुख्यमंत्री आदित्यनाथ में इतनी हिम्मत है कि वह अपने मुस्तैद दस्ते का नाम ऐंटीकृष्ण स्क्वॉड रख सकें?”

प्रशांत भूषण ने अपने इस ट्वीट में बकायदा लोगों के नाम लिखते हुए बताया कि किसने कौन सा नारा दिया था! प्रशांत भूषण ने सुरैया तैयबजी का भी जिक्र करते हुए लिखा कि देश के तिरंगे को शक्ल देने में एक मुसलमान का हाथ था! अब एक बार फिर प्रशांत भूषण ने हिन्दुओं और हिंदूवादी संगठनों पर निशाना साधा है, ये वही प्रशांत भूषण है जो कभी आतंकवादी याकूब मेनन के फांसी की सजा माफ़ करने के लिए को सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने गए थे!

अगले पेज पर देखें कैसे नक्सली प्रशांत भूषण को यूजर्स ने याद दिलाई हिन्दुओं की वीरता और खूब लताड़ा…

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

VIDEO : भारत ने अमेरिका को घुटनों पर ला दिया और एक हम हैं कोई पूछता तक नही – पाकिस्तानी मीडिया !

0

पाकिस्तान हमेशा से अपने देश की विकाश को दरकिनार कर भारत की बर्बादी पर ज्यादा तवज्जो देता रहा है, वहाँ अबतक जितनी भी सरकार आई लगभग सब ने भारत के खिलाफ जहर उगलने का ही काम किया है! इसके अलावे जिस किसी ने भी भारत के साथ दोस्ती की हाथ बढ़ाने की कोशिश की उन नेताओं को इसका खामयाजा बखूबी भुगतना पड़ा! क्युकी वहां की सेना तख्ता पलट कर देती है!

एक बात तो सत्य है की पाकिस्तान जब जब भारत से भिड़ने की कोशिश की है तब तब उसे मुहकी कहानी पड़ी है! भारतीय शुक्रगुजार है अपने सैनिकों का जिन्होंने अपनी जान की परवाह किये बिना पाकिस्तान के नपक इरादों को नेस्तोनाबूत कर दिया! चाहे वो 1971 का युद्ध हो या करगिल!
लेकिन एक पाकिस्तान है जो अभी तक भी उसी हालत में है जैसे 1947 में था। क्योंकि इन्होंने तो देश की तरक्की पर कभी जोर दिया ही नही बस जोर दिया तो भारत की तरक्की पर रोड़ा बनने का, भारत की तकक्की पर जलने का। ये लोग आये दिन बस भारत को बर्बाद करने के झूठे ख्वाब देखते हैं। दुनिया के कई मुल्क चाँद और मंगल ग्रह और पहुँच गये लेकिन पाकिस्तानी अभी भी भारत में घुसपैठ की ही कोसिश करता है।

देश की जनता भुखी मर रही होती है लेकिन इनको कश्मीर के ख्वाब देखने हैं। आतंक को पनाह देना है। पाकिस्तान की सबसे बड़ी मूर्खता ये है कि ये लोग पाक के विकास के बजाए आतंक को पनाह देने में खर्च करते हैं। पाकिस्तान की आवाम खुद पाक से नफरत करती है। और यह सब वहाँ की घटिया सोच वाले नेताओं की वजह से होता आतंक के सरगानों के वजह से होता है

अगले पेज पर देखें कैसे पाकिस्तानी मीडिया भारत के रुतबे पर मातम मना रही है….

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

Video : जब एक हिंदू युवक ने लाइव डिबेट पर मौलवी को कुरान के ऊपर किया बेनकाब, मौलवी की बोलती बंद !

0

हाल की समय में तेज़ी फैलते इस्लामिक आतंकवाद को जानने और समझने लिए कई शब्दो की खोज हुई है जिस शब्दो में मुख्य रूप से शमील है कट्टरपंथी इस्लाम, इस्लामिक आतंकवाद, चरमपंथी इस्लाम आदि। कई बड़े नेता इससे अपने आप को अलग करते नज़र आते हैं जैसे कि बराक ओबामा ने सियासी तौर पर सही बने रहने के लिए इस्लाम से उनका किसी भी सम्बन्ध को खारिज़ कर दिया था। अब सवाल उठना वाजिफ है कि इस्लामिक आतंकवाद कहना चाहिए या कुछ और ?

अब बात करते है जिहादी आतंकवाद की। ज़िहाद जैसे शब्दों का इस्तेमाल तो अलकायदा, तालिबान, और इस्लामिक स्टेट भी अपनी होने वाली गतिविधियों में करता है। वो जिहाद के नाम पर आतंक फैलाने, कत्लेआम करने और मासूमो को मारने के लिए कुरान की हदीसों और आयतों का हवाला देते हैं। ये सभी गुट लोकतंत्र को नही मानते और शरिया के हिसाब से दुनिया को चलाना चाहते हैं। यही वजह है इन्हें जिहादी या कट्टरपंथी कहा जाता हैं।

ये हर समय आज़ादी की मांग को ज़िहाद का नाम देते हैं लेकिन वही आज़ादी जब बलूचिस्तान वाले मांगते हैं तो उन्हें ये जिहादी नही कहते। कहा जा सकता हैं की सिर्फ आतंक फैलाने ही ज़िहाद है। गैर मुस्लिमो को ये काफिर समझते हैं और काफिरों को मार दो यही इनका मज़हब कहता है। क्योकि इनकी नज़र में हर वो इंसान काफ़िर है जो इस्लामिक नहि हैं।

इस मुद्दे पर बहस करने के लिए एक कार्यक्रम चल रहा था जिसमे मौलवी भी मौजूद था और जनता भी मौजूद थी। जब बात आतंक की आयी और गैर ईस्लाम वालो को काफिर कहने की बात पर बहस चल रही थी। तो वही बैठे हिन्दू युवक ने इस्लाम की कुरान में लिखी आयते पढ़नी शुरू की और उनका मतलब बताया तो मौलवी के मुँह पर तो जैसे रात पड़ गयी। बाकि आप वीडियो देखिये खुद समझ जाएंगे ।

वीडियो यहाँ देखें।

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

VIDEO : बिहार महागठबंधन टूटने के कगार पर, JDU प्रवक्ता और RJD विधायक एक-दूसरे पर जमकर बरसे!

0

पटना: बिहार की राजनीती गरमाई हुयी है, बिहार में महागठबंधन की नितीश सरकार जहा एक तरफ भ्रष्टाचार के मसले पर नरम होने को तैयार नहीं है और उप मुख्यमंत्री तेजश्वी यादव का इस्तीफा चाहती है तो वही दूसरी तरफ राष्ट्रिय जनता दल भी अपने जिद्द पर अड़ी हुए है की वो किसी भी सूरत में तेजस्वी यादव को इस्तीफा नहीं देने देगी, बिहार में उतपन्न इस राजनीतिक संकट को लेकर नितीश कुमार ने महागठबंधन के एक अन्य सहोगी कांग्रेस के उपाध्यक्ष से इस मसले पर मुलाकात की और गठबंधन के हालिया स्थिति के बारे में जानकारी दी! दोनों नेताओ ने क्या फैसला लिया यह अभी तक सामने नहीं आया है!

लेकिन जनता दल यूनिटेड और राष्ट्रीय जनता दल के प्रवक्ता और विधायकों के हालिया वयान से यही प्रतीत हो रहा है की बिहार के राजनीती में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है और महागठबंधन पर संकट के बदल अभी भी मंडरा रहे है! हलाकि की दो पार्टियों के शीर्ष नेताओ ने अभी तक कोई अंतिम फैसला नहीं लिया है! जहा एक तरफ नितीश कुमार चुप्पी साढ़े हुए है तो लालू प्रशाद यादव और तेजश्वी यादव भी कुछ भी साफ़ साफ़ नहीं कह रहे है!

जाहिर हो अभी कुछ समय से आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद और उनके परिवार के काले कारनामो का चिट्ठा एक-एक करके जनता के सामने आ रहा है जिससे कही न कही नितीश कुमार की छवि ख़राब होती नजर आ रही है! जब से सीबीआई ने तेजस्वी यादव के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में FIR कराइ है तब से राष्ट्रीय जनता दल तिलमिलाई हुयी है तो दूसरी तरफ जनता दल यूनिटेड तेजश्वी के इस्तीफे की मांग कर रही है!

बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार के राहुल गाँधी से मुलाकात के बाद जब ABP न्यूज़ ने जदयु प्रवक्ता से बात की तो उन्होंने कहा की हम भ्रस्टाचार से समझौता नहीं कर सकते और नितीश कुमार की छवि को करब नहीं कर सकते! तो इसके जबाब में राजद केविधायक ने भी खूब उल्टा सीधा बोलै और यहाँ तक कह डाला की नितीश को वोट नहीं मिला है ये राजद को वोट मिला है! दोनों ने खूब गरमा-गरमी में जबाब दिया!

अगले पेज पर देखे वीडियो, JDU प्रवक्ता और RJD विधायक ने एक-दूसरे पर ढेरो आरोप लगाए…

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

VIDEO : वेंकैया नायडू ने कांग्रेसी नेता खडके की धज्जियाँ उड़ा डाली, पीएम मोदी भी देखते रह गए!

0

नई दिल्ली: वेंकैया नायडू को एनडीए की और से उप राष्ट्रपति पद का उमीदवार बनाया गया है, नायडू का उपराष्ट्रपति चुना जाना लगभग तय मन जा रहा है! क्युकी जितने आंकड़े उन्हें जितने के लिए चाहिए उतना भाजपा और उसके सहयोगी दलों के पास दीखता नजर आ रहा है! वेंकैया नायडू की गिनती भाजपा के कद्दावर नेताओ के तौर पर होती है! नायडू 2002 से लेकर 2004 तक भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रह चुके है! अटल बिहारी बाजपेयी सरकार में नायडू को ग्रामीण विकाश मंत्रालय का पद भी दिया गया था और इन्हे प्रधानमंत्री मोदी के करीबियों में से एक मन जाता रहा है!

नायडू प्रधानमंत्री मोदी की सरकार में सहरी विकास मंत्री के साथ साथ सूचना प्रसारण मंत्रालय जैसे अहम पदों पर मौजूद रहे है! अब जब उनका नाम उपराष्ट्रपति उमीदवार के तौर पर घोसित किया गया है तो भाजपा के विरोधी पार्टिया ये कह रही है की वेंकैया नायडू को सक्रिय राजनीती से दूर किया जा रहा है! खबरों के मुताबिक पहले नायडू उपराष्ट्रपति उमीदवार बनने के लिए राजी नहीं थे लेकिन जब प्रधानमंत्री मोदी और अमित साह ने आग्रह किया तो वो पार्टी के तरफ से उपराष्ट्रपति उमीदवार बने!

वेंकैया नायडू की छवि हमेशा से एक तेज तर्रार नेता की रही है और उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के शुरूआती दिनों से पार्टी को मजबूती प्रदान किया है! हलाकि जब 2014 लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी को प्रस्तावित किया गया था तो भाजपा के तीन बड़े नेताओ ने इसका विरोध किया था और वेंकैया नायडू भी उनमे से एक थे! लेकिन बाद में वेंकैया नायडू ने मोदी के नेर्तित्व में मिली एनडीए को बड़ी जित से काफी उत्साहित थे और मोदी के करीब आ गए!

जब बात वेंकैया नायुडु की हो रही है तो हम आपको एक वीडियो दिखाना चाहेंगे जिसमे उन्होंने कांग्रेस पार्टी की जमकर धज्जिया उड़ाई है! वेंकैया नायडू विपक्षी और विरोधि पार्टियों पर काफी आक्रामक रूप अख्तियार करते थे, देखिये कैसे नायडू ने कांग्रेस खेमे की बंद बजाई!

अधिक जानकारी के लिए देखें नीचे दी गई वीडियो :-

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति के संघी होने का उड़ाया मज़ाक, यूज़र्स ने जमकर धो डाला !

0

मोदी जी और दिग्विजय सिंह में एक चीज़ देखने वाली है – जब जब मोदी जी कुछ कहते हैं तो लोग उनके कायल होते हैं और जब जब दिग्गी राजा कुछ कहता है तो भाजपाई ठहाके मारते हैं और कांग्रेसी शर्मसार होते हैं! लेकिन, इस सच्चाई को कम लोग जानते हैं कि कांग्रेस पार्टी और सोनिया गाँधी के हिन्दुओं को विभाजित करने, लाशों पर राजनीति करने, और हिन्दू आतंकवाद जैसे शब्दों की उत्पत्ति में दिग्गी का अहम् योगदान रहा है!

इस घटिया इंसान ने तो मुम्बई हमलों के लिए भी राष्ट्रवादियों को जिम्मेदार ठहराया। दिग्विजय सिंह के लिए जनता कोई माईने नही रखती अगर माईने रखती है तो राजनीति, पैसा, और पद, ये कुर्सी के लिए किसी भी हद तक गिरने को तैयार हैं। क्योंकि इनका एजेंडा देश का विकास नही बल्कि खुद का विकास है। खैर अब जनता इनका ढोंग समझ चुकी है और इन्हें हर चुनाव में मुँह की खानी पड़ रही है ।

इस समय देश के सर्वोच्च पदों पर संघ से जुड़े नेता ही मौजूद हैं। प्रधानमंत्री, नव निर्वाचित राष्ट्र्पति , उपराष्ट्रपति सभी संघ से जुड़े हैं। अब ये बात विरोधियो को हज़म नही हो रही है। क्योंकि सभी जानते हैं कि इन्हें बेवजह ही संघ से नफरत है। अब दिग्विजय सिंह को ही देख लीजिए इसी बात पर उन्होंने तीनो सर्वोच्च पदों का मज़ाक उड़ा डाला क्योंकि वो संघ से हैं

देखें दिग्विजय सिंह ने क्या कहा…..Tweet

अगले पेज पर देखें यूज़र्स ने दिग्विजय सिंह को बुरी तरह धो डाला…..

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

VIDEO : “स्वतंत्रता की लड़ाई में आपके कुत्ते भी नहीं थे” सवाल पर मोदी जी ने दिया कांग्रेसी को मुँहतोड़ जवाब !

0

मोदी जी भारत के प्रथम प्रधानमंत्री हैं जिनका जन्म आजादी के बाद हुआ है। ऊर्जावान, समर्पित एवं दृढ़ निश्चय वाले नरेन्द्र मोदी एक अरब से अधिक भारतीयों की आकांक्षाओं और आशाओं के द्योतक हैं। मई 2014 में अपना पद संभालने के बाद से ही प्रधानमंत्री मोदी चहुंमुखी और समावेशी विकास की यात्रा पर निकल पड़े हैं जहां हर भारतीय अपनी आशाओं और आकांक्षाओं को पूरा कर सके। वे ‘अंत्योदय’, अर्थात, अंतिम व्यक्ति तक सेवा पहुंचाने के सिद्धांत से अत्यधिक प्रेरित हैं।

नवीन विचारों और पहल के माध्यम से सरकार ने यह सुनिश्चित किया है कि प्रगति की रफ्तार तेज हो और हर नागरिक को विकास का लाभ मिले। अब शासन मुक्त है, इसकी प्रक्रिया आसान हुई है एवं इसमें पारदर्शिता आई है।

पहली बार प्रधानमंत्री जन-धन योजना के माध्यम से अभूतपूर्व बदलाव आया है जिसके अंतर्गत यह सुनिश्चित किया गया है कि देश के सभी नागरिक वित्तीय तंत्र में शामिल हों। कारोबार को आसान बनाने के अपने लक्ष्य को केंद्र में रखकर ‘मेक इन इंडिया’ के उनके आह्वान से निवेशकों और उद्यमियों में अभूतपूर्व उत्साह और उद्यमिता के भाव का संचार हुआ है। ‘श्रमेव जयते’ पहल के अंतर्गत श्रम सुधारों और श्रम की गरिमा से लघु और मध्यम उद्योगों में लगे अनेक श्रमिकों का सशक्तिकरण हुआ है और देश के कुशल युवाओं को भी प्रेरणा मिली है।

लेकिन कांग्रेस को आज भी विरोध करने से फुरसत नही है। कांग्रेस किसी भी तरह बीजेपी और मोदी जी को नीचा दिखाने की कोशिश करती रही है। ऐसे घटिया बयान बाजी करते हैं की शर्म को भी शर्म आजाये। जब कांग्रेस नेता ने बोला कि “स्वतंत्रता की लड़ाई में आप तो क्या आपके कुत्ते भी नहीं थे नरेंद्र मोदी जी में दिया ऐसा जवाब की हो गयी बोलती बंद !

वीडियो यहाँ देंखे

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

Mobile चलान में ऐसी मशगूल हो गयी कि चलती बस से उतर पड़ी युवती, फिर हुआ ये हाल…

0

मोबाइल मेनिया अब जानलेवा बनता जा रहा है। मोबाइल पर मैसेज देखते या बातचीत करते हुए लोग इतने मशगूल हो जाते हैं कि हादसे का शिकार भी हो जाते हैं। ऐसा ही एक हादसा बलदेवबाग चौराहा के समीप हुआ। शुक्रवार को यहां एक युवती मोबाइल पर मैसेज करते हुए चलती बस से नीचे उतर गई। उसे काफी चोटें आई हैं। यात्रियों ने केवल उसे ढ़ाढस बंधाया बल्कि प्राथमिक उपचार के लिए अस्पताल भी पहुंचाया।

प्रत्यक्ष दर्शियों के मुताबिक मुंह पर दुपट्टा बांधे युवती मेट्रो बस के गेट पर खड़ी थी। वह मोबाइल पर मैसेज कर रही थी। इसी दौरान एक कॉल भी आ गया वह बातों में व्यस्त हो गई। उसका पूरा ध्यान मोबाइल पर था। बात करते-करते उसे पता ही नहीं चला कि वह कब गेट से आगे बढ़ गई। देखते ही देखते वह चलती बस से नीचे गिर गई। उसे नीचे गिरता देख अन्य यात्रियों ने आवाज लगाकर बस रुकवाई।

बताया गया है कि युवती क्षेत्रीय बस स्टेंड के समीप से बस पर सवार हुई और गेट पर ही खड़े हो गई। संभवत: वह मैसेज पढ़ रही थी, इसी दौरान उसके मोबाइल पर कॉल आया और वह बात करने लगी। बस जैसे ही बल्देवबाग के पास से मोड़ पर पहुंची, युवती अचानक उतरने लगी और सड़क पर गिर गई। इस दुर्घटना में उसके चेहरे पर चोट आई। युवती का नाम सुधा नामदेव बताया जा रहा है। वह रानीताल की रहने वाली है। अस्पताल में प्राथमिक उपचार व मोबाइल पर इस तरह बात नहीं करने की समझाईश देकर डॉक्टरों ने उसे घर रवाना कर दिया है।

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

Video : जब रिपोर्टर ने अर्णब को BJP एजेंट कहा तो अर्णब का जवाब सुन शर्म से झुक गई उसकी गर्दन।

0

अर्नब गोश्वामी को आज एक राष्ट्रवादी पत्रकार के रूप में जाना जाता है, जब भी देश के खिलाफ उनके स्टूडियो में बोलने की कोशिश करता है तो अर्नब गोश्वामी जमकर क्लास लगते है और अर्नब गोस्वामी को जब गुस्सा आता है, तो अच्छे अच्छे तीस मार खान हार मानने पर मजबूर हो जाते है!

अर्नब जब कभी भी पकिस्तान या कश्मीर या फिर आतंकवादियो पर बोलते है तो वो मंजर देखने लायक होता है और हर देशवासी के दिलो दिमाग को झकझोर कर रख देता है!अर्णब सैनिक परिवार से हैं। इसलिए ही राष्ट्रवाद उनकी रग रग में बसा हुआ है। वो हर उस सख्स का पर्दाफाश करते हैं जो भी छद्म पाखण्ड करके देश और देश की जनता की आँखों में धुल झोकना चाहता है।

यहाँ तक की अब उनके चैनल रिपब्लिक की TRP भी सबसे ज्यादा है। देश भर में अर्णभ के समर्थकों की कमी नही है। उनके बेख़ौफ़ बोलने का अंदाज़ ही जानता को बेहद पंसद है। अर्णब ने हमेशा से ही निष्पक्ष पत्रकारिता की है।

अर्णब हर उस मुद्दे को उठाने की कोशिश करते हैं जो समाज और देश के लिए जरुरी होता है। इस देश में अगर किसी ने देश हित का मुद्दा उठाया है या देश के सभी नागरिकों को सामान समझ के एजेंडा उठाया है तो उन कुछ पत्रकारों में अर्णब का नाम भी आता है। अर्णब में ने हमेशा से ही निष्पक्ष पत्रकारिता की है।

अगले पेज पर देखें video अर्णब ने लाइव शो में पत्रकार के सवाल पर कैसे उसकी धज्जियां उड़ा दी….

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

शर्मनाक : AAP पार्टी के एक और विधायक पर महिला से छेड़खानी करने के आरोप में हुआ केस दर्ज ! पढ़ें पूरी खबर…

0

नई दिल्ली: दिल्ली में आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जारवाल पर एक महिला ने छेड़खानी और धमकी देने का आरोप लगाते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है. प्रकाश जारवाल ने सफाई दी है कि उन पर आरोप झूठे हैं और महिला बीजेपी की कार्यकर्ता है.

प्रकाश जारवाल दिल्ली के देवली विधानसभा से आम आदमी पार्टी के विधायक हैं. प्रकाश जारवाल पर दिल्ली के संगम विहार थाने में एक महिला ने छेड़खान, अभ्रद भाषा का इस्तेमाल और धमकी देने की शिकायत की है.

मामला 9 जुलाई का है. महिला का आरोप है कि विधायक प्रकाश जारवाल ने घर में घुसकर उनके परिवार से बदतमीजी की और गाली दी. विधायक जारवाल ने महिला के आरोप को बेबुनियाद बताया है. प्रकाश जारवाल ने अपने ऊपर लगे आरोपों को राजनीति से प्रेरित बताया है.

विधायक और पीड़ित महिला के बीच अप्रैल में हुए एमसीडी चुनाव के दौरान भी झगड़ा हुआ था. जिसमें दोनों ने एक दूसरे के खिलाफ शिकायत तक दर्ज कराई थी. फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है. विधायक प्रकाश जारवाल पर तीन महीने पहले भी एक महिला से छेड़खानी का केस दर्ज हो चुका है.

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

राहुल गांधी का बयान UP में कांग्रेस के कारण हुआ किसानों का कर्ज़ा माफ़, किसानों का जवाब सुन उड़ गए होश।

0

राहुल गांधी एक ऐसा नाम है कि जिसे लगभग सभी जानते होंगे राहुल गांधी कहने को तो राजनीती में हैं लेकिन हमेशा ही अपनी बचकानी हरकतों की वजह से ही सुर्खियों में बने रहते हैं। उनके भाषण सुनकर कोई भी अपनी हँसी नही रोक पाता है। जब भी वो भाषण देते है तभी कुछ ऐसा कह देते हैं कि जनता के बीच हँसी के पात्र बनकर रह जाते हैं। कभी तो हालात ऐसे हो जाते हैं कि उनके सहयोगी कांग्रेसी नेता भी अपनी हँसी नही रोक पाते।

राहुल गाँधी को कांग्रेस ने प्रधानमंत्री बनाने के ख्वाब सजाए हैं।। लेकिन वो हर बार कुछ ना कुछ ऐसा बयान दे देते हैं कि पूरी पार्टी को शर्मिंदा होना पड़ता है। उनके बयानों में कोई भी स्थिरता नही होती बस जो मुँह में आजाता है वही बोल दिया करते हैं। उनकी इसी हरकतो की वजह से अभी कुछ दिन पहले ही एक कांग्रेस कार्यकर्ता ने पप्पू कह दिया था जिसे पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था।

अब राहुल गांधी ने फिर से एक बयान दिया है कि उत्तरप्रदेश सरकार ने जो किसानों का कर्जा माफ़ किया है वो कांग्रेस पार्टी के दबाव के कारण दिया है। जबकि चुनाव से पहले बीजेपी सरकार ने इसकी घोषणा की थी और किसानों से वादा किया था कि यदि उत्तरप्रदेश में बीजेपी की सरकार बनती है तो किसानों का कर्जा माफ़ होगा। और उन्होंने कर्जा माफ़ किया भी। लेकिन उस पर राहुल गांधी कांग्रेस की मेहरबानी का हक़ जता रहा हैं। ।

देखें राहुल गांधी का ट्वीट।

अगले पेज ओर देखें राहुल गांधी को कैसे मिले मुँहतोड़ जवाब….

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

रामनाथ कोविंद की जीत पर IPS संजीव भट्ट ने PM मोदी पर कसा तंज- “शुक्रिया टमाटर को सेब बना दिया”, मिले ये जबाब!

0

नई दिल्ली: राष्ट्रपति चुनाव के परिणाम आने के बाद से ही देशवासियो द्वारा नवनिर्वाचित राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद जी को बधाई देने का शिलशिला जारी हो गया था, हर कोई नेता, अभिनेता, खिलाडी और सामाजिक कार्यकर्ताओ ने उन्हें बधाई दिया तो दूसरी तरफ गुजरात के निलंबित आईपीएस संजीव भाट ने राष्ट्रपति को लेकर मोदी जी पर तंज कसा! संजीव भाट को गुजरात दंगो को लेकर कोर्ट ने फटकार भी लगायी थी! संजीव भट का नाम मोदी के धुरविरोधियो में जाना जाता है और उनपर कांग्रेस के लिए पक्षधर होने के आरोप भी लगते रहे है!

संजीव भट ने गुजरात दंगो में कांग्रेस के इसारे पर काम किया था और उन्होंने तत्कालीन मोदी सरकार को फ़साने के लिए हर नाकाम कोशिश भी करि थी! लेकिन संजीव भट के भूमिका को देखते हुए उन्हें निलंबित कर दिया गया था! गुजरात सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि पूर्व आईपीएस अफसर संजीव भट्ट कांग्रेसी नेताओं के साथ मिलकर 2002 के गुजरात दंगों के मामले को सुर्खियों में रखना चाहते हैं!

संजीव भट ने राष्ट्रपति को बधाई देने के वजय अलग अंदाज में व्यंग्य किया! आईपीएस संजीव भट्ट ने टवीट् किया, “शुक्रिया मोदी जी, गरीब टमाटर अमीर सेब की श्रेणी में प्रमोट होकर आ गया है, टमाटर के अच्छे दिन आ गये”! संजीव ने अपने ट्वीट में सबका साथ सबका विकास को टैग भी किया!

जाहिर हो कल 20 जुलाई को एनडीए के उमीदवार श्री राम नाथ कोविंद जी ने राष्ट्रपति चुनाव जीता था, उन्होंने यूपीए के उमीदवार श्रीमती मीरा कुमार को हराया! रामनाथ कोविंद जी को लगभग 65% वोट मिले तो मीरा कुमार को 45% मत हासिल हुए!

अगले पेज पर देखिये, संजीव भट को राष्ट्रपति का मजाक बनाने पर लोगो ने आड़े हांथो लिया…

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

जिन्हे लगता है कि मोदी सरकार कश्मीर घाटी मे कुछ नहीं कर रही, वो जरा इस आतंकी का विडियो एक बार देखे!

0

श्रीनगर: अगर जम्मू-कश्मीर की कानून व्यवस्था के बारे में बात करें तो अलग-अलग घटनाओं में इस साल हुई पत्थरबाजी की घटनाओं में भारी कमी हुई है. इस साल पत्थरबाजी की कुल 664 घटनाएं (9 जुलाई तक) हुई हैं! आपको बता दें कि अपने लिखित जवाब में गृह मंत्रालय ने जवाब दिया है कि 2016 में 2808 पत्थरबाजी की घटनाएं की घटनाएं हुई थीं! पिछले साल 8 जुलाई को बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद लगातार तीन महीनों में सबसे ज्यादा कश्मीर घाटी में पत्थरबाजी की घटनाएं हुईं!

कश्मीर मसले पर मोदी सरकार ने अपना रुख बिलकुल साफ़ कर दिया है, केंद्र सरकार किसी भी कीमत पर कश्मीर में शांति बहाली करना चाहती है! हलाकि कश्मीर घाटी में हाल के दिनों में हिंसा के मामलो में काफी बढ़ोतरी हुयी है और आतंकवादी अब लोकल पुलिस वालो और फौजियों को निशाना बना रहे है, इसका मुख्य कारन है कश्मीर के लोगो में खौफ पैदा करना ताकि वो देश का साथ न देकर इन आतंकियों का साथ दे!

लेकिन कुछ देशभक्त कश्मीरी ऐसे भी है जो अपनी जान की परवाह किये बिना सेना और सरकार की मदद कर रहे है! आज इन्ही देशभक्त कश्मीरियों की मुखबरी के वजह से इस साल 2017 में अबतक लगभग 100 से ऊपर आतंकवादियों को सेना के जवान मौत के घाट उतर चुके है!

ये कहना बिलकुल गलत होगा की मोदी सरकार कश्मीर मसले को हल्के में ले रही है, मोदी जी ने सेना को खुली छूट दे राखी है कश्मीर से इस आतंकवाद रूपी गन्दगी को ख़त्म करने के लिए! आये दिन सेना के जवान आतंकियों के लिए सर्च ऑपरेशन कर रहे है और सुचना मिलते ही उनका इनकाउंटर हो रहा है! 2017 में इतने बड़े पैमाने पर आतंकियों का मारा जाना इस बात की और इसारा करता है की मोदी सरकार आतंकवाद के खात्मे को लेकर काफी सख्त है!

अगले पेज पर देखे वीडियो, एक आतंकी अपने साथियो को आने वाले मौत से आगाह कर रहा है…

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+

केआरके ने नरेश अग्रवाल के बचाव में हिन्दू धर्म का मजाक उड़ाया, एक के बाद एक कई tweets किये!

0

देश में आज धर्म को लेकर भी दोहरी निति अपनाने वाले लोगो की कमी नहीं है! अगर कोई अल्प्सन्ह्याक समुदाय के बारे में बोलता है तो उसे खा जाता है की देश की माहौल बिगड़ने की कोशिश की जा रही है! अगर कोई उनके धर्म या उनके पैगम्बर के बारे में एक छोटी सी बात भी बोल देता है तो मीडिया खूब हो हल्ला मचाती है! और धर्म विशेष के लोग सड़को पर उतर जाते है और दूसरे समुदाय के लोगो को मरने-मारने पर उतारू हो जाते है! और मीडिया भी कहती है की देश में अशहिष्णुता बढ़ रहा है! लेकिन क्या कभी हिन्दू धर्म और देवी देवताओ पर टिप्पड़ीं करने वालो के खिलाफ ये लोग एक स्वर में आवाज बुलंद किये है! नहीं न? क्युकी हिन्दू सहिष्णु है!

अभी हाल के बंगाल, बसीरहाट में घटे घटना की जिक्र करते है, क्या हुआ था वहां – एक नाबालिग लड़के ने सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट दाल दिया था जिसके बाद पूरा बसीरहाट जल उठा और उस लड़को को लोग मारने पर उतारू हो गए थे! लेकिन जब कोई जान प्रतिनिधि हिन्दू देवी देवताओ का अपमान करता है तो सबके जुबान पर ताला लग जाता है! और तो और लोग ऐसा दिखने की कोशिश करते है जैसे की कुछ हुआ ही न हो! बुधवार को राज्यसभा में बहस चल रही थी, चर्चा के दौरान समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल ने भगवान् श्री राम, ब्राम्भा जी, माता जानकी और हनुमान जी को लेकर विवादित वयं दे डाला!

इस बयान पर बीजेपी ने विरोध किया और उनसे माफी की मांग की, लेकिन क्या माफ़ी की मांग से सबकुछ रफा दफा हो जाता है? एक दूसरी घटना को बताते है उत्तरप्रदेश के कमलेश तिवारी ने विवादित टिपण्णी की थी और आज भी वो जेल में बंद है! तो फिर नरेश अग्रवाल के लिए वही कानून क्यों नहीं काम कर रहा है! वैसे समाजवादी पार्टी के नेता आए दिन सुर्खियों में रहते हैं! कभी सेना पर आपत्तिजनक बयानबाजी करना तो कभी हिंदू धर्म पर

इसी कड़ी में नरेश अग्गरवाल के बचाव में बॉलीवुड के एक C ग्रेड एक्टर ने ट्विटर पर कई सारे पोस्ट किये! हालाँकि उनके पास ऐसी ओछी और गिरी हरकत करने के सिवाय कोई काम नहीं बचा है! अग्रवाल का बचाव करते हुए कहा है कि बात आस्था की ही होती तो पूरे देश में सूअर की भी गाय की तरह पूजा होती क्योंकि वो भी तो विष्णु जी का अवतार है! आखिर ये महासय कमाल आर खान साबित क्या करना चाहते है, देखिये इनके शर्मनाक ट्वीट्स!

Share with Friends
FacebookTwitterGoogle+