कांग्रेस बीजेपी और जेडीएस की बात छोड़िये, जानिये कर्नाटक में दिल्ली के मालिक घुंघरू सेठ का क्या हाल हुआ..

कर्नाटक चुनाव के नतीजे 15 मई को सभी के सामने आ गए हैं! जिसमें कांग्रेस को बीजेपी ने बुरी तरह शिकस्त दी लेकिन बीजेपी और कर्नाटक की जनता के लिए यह दुर्भाग्यपूर्ण बात रही की बहुमत के जादुई आकड़े से बीजेपी थोड़ी पीछे रह गई! बीजेपी को 104 सीटें हासिल हुयी है और बहुमत के लिए 111 विधायकों की जरुरत थी! सभी मीडिया चैनल पर सिर्फ बीजेपी, कांग्रेस और जेडीएस की बात हो रही है लेकिन एक और पार्टी जिसके मुखिया अरविन्द केजरीवाल जी है, आम आदमी पार्टी ने भी चुपके से कर्नाटक में चुनाव लड़ा था! इस चुनाव में आप पार्टी बहुत बुरी तरह धराशायी हो गयी है! केजरीवाल की पार्टी ने कर्णाटक में दिल्ली मॉडल के नाम पर वोट मांगे थे!

Loading...

आम आदमी पार्टी काफी वक्त से कर्नाटक में चुनाव की तैयारी कर रही थी, पार्टी का इरादा बड़े स्तर पर चुनाव में जाने का था, लेकिन चुनाव नजदीक आते-आते उसकी योजना सिमट गई और पार्टी ने महज 28 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे! मंगलवार को जब रिजल्ट घोषित हुए तो आप का एक भी उम्मीदवार नहीं जीत सका, यहां तक की उसके उम्मीदवारों की जमानत तक जब्त हो गई और पार्टी का पूरा वोट शेयर नोटा से भी कम रहा!

आम आदमी पार्टी के जो समर्थक है कहीं वो बुरा न मान जाये की उनकी पार्टी पर न्यूज़ चैनल वाले बात क्यों नहीं कर रहे, इसलिए लॉजिकल भारत आम आदमी पार्टी के समर्थको के लिए ये लेख विशेष रूप से लिख रहा है! अरविन्द केजरीवाल की पार्टी ने कर्णाटक में अपना पुराना जमानत जप्त करवाने का रिकॉर्ड बरक़रार रखा और कर्णाटक में 100% स्ट्राइक रेट रहा, सभी 28 की 28 सीटों पर आम आदमी पार्टी की जमानत जप्त हो गयी, और नोट से भी कम वोट आम आदमी पार्टी को मिले!

Loading...

केजरीवाल की पार्टी को 0.57% वोट मिले है, नोट को भी इसे से ज्यादा 1.06% वोट मिले है, हर सीट पर AAP प्रत्याशियों की जमानत तक जनता ने जप्त करवा दी, और कर्णाटक की जनता ने आज केजरीवाल के दिल्ली मॉडल पर भी अपनी राय रख दी!

केजरीवाल की पार्टी के नेता सोशल मीडिया पर एक्टिव है, आज ये लोग अपनी पार्टी के प्रदर्शन पर चर्चा नहीं कर रहे बल्कि ये लोग इस बात से खुश अधिक है की बीजेपी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला, कोई भी नेता कर्णाटक में AAP के प्रदर्शन पर 1 भी त्वीट करता नहीं पाया गया!

loading...