कर्नाटक में BJP को बहुमत नहीं: सरकार बनाने की कवायत शुरू, JDS को कांग्रेस नहीं करेगी बहार से समर्थन!

कर्णाटक में बीजेपी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है, और अब कांग्रेस और जेडीएस ने मिलकर सरकार बनाने की कवायत शुरू कर दी है, गुलाम नबी आजाद ने देवेगौडा के घर मिलकर मीटिंग शुरू कर दी है, और देवेगौडा ने सोनिया गाँधी से भी बात की है

सोनिया गाँधी ने देवेगौडा की जेडीएस को मुख्यमंत्री पद ऑफर कर दिया है, और फार्मूला ये है की सरकार जेडीएस और कांग्रेस की बनेगी और मुख्यमंत्री जेडीएस का होगा और उपमुख्यमंत्री कांग्रेस का, जेडीएस कुमार स्वामी या देवेगौडा जिसे चाहे उसे मुख्यमंत्री बनाये और कांग्रेस किसी दलित को उपमुख्यमंत्री बनाएगी!

अभी तक के आंकड़ो के अनुसार बीजेपी को 105 सीट मिली है जबकि कांग्रेस को 75 और जेडीएस को 38, जेडीएस और कांग्रेस को मिला देने पर 113 सीट हो जाती है जो की पूर्ण बहुमत का आंकड़ा है!

बीजेपी को रोकने के लिए अन्य दलों ने भी इस फोर्मुले का समर्थन करना शुरू कर दिया है, आम आदमी पार्टी और ममाता बनर्जी ने स्वयं इसका समर्थन किया है, ममाता ने कहा है की बीजेपी को हर हाल में रोका जाना चाहिए और कांग्रेस और जेडीएस एक साथ आ जायें, जबकि आम आदमी पार्टी के नेताओं ने भी इस फोर्मुले का स्वागत करना शुरू कर दिया है

आम आदमी पार्टी के नेता आशुतोष ने भी कहा है की कांग्रेस और जेडीएस मिलकर सरकार बनाये, और अब इसी फोर्मुले के तहत सोनिया गाँधी ने जेडीएस को मुख्यमंत्री पद का ऑफर दे दिया है

अगर आप इतिहास की बात करें तो बीजेपी को रोकने के लिए एक बार कांग्रेस ने झारखण्ड में मधु कोड़ा नाम के निर्दालिय विधायक को मुख्यमंत्री बना दिया था, निर्दलीय मधु कोड़ा झारखण्ड के मुख्यमंत्री बने थे, अभी कांग्रेस के पास 75 सीट है जबकि जेडीएस के पास 38 ऐसे में कांग्रेस बीजेपी को रोकने के लिए जेडीएस को CM पद दे दिया है, और गुलाम नबी आजाद के जरिये सोनिया गाँधी सीधे देवेगौडा से बातचीत कर रही है