कर्नाटक के सियासी दंगल के बिच केरल सरकार के इस कदम ने बढ़ाई कांग्रेस-जेडीएस की मुश्किल..

कर्नाटक चुनाव के नतीजे सामने आ गए हैं! जिसमें कांग्रेस को बीजेपी ने बुरी तरह शिकस्त दी लेकिन बीजेपी के लिए यह दुर्भाग्यपूर्ण बात रही की बहुमत के जादुई आकड़े से थोड़ी पीछे रह गई! बीजेपी को 104 सीटें हासिल हुयी है और बहुमत के लिए 111 विधायकों की जरुरत है! कर्नाटक विधानसभा चुनाव में किसी दल को बहुमत नहीं मिला है! सभी दलों के भीतर सरकार बनाने को लेकर चल रही उठापटक के बीच केरल टूरिज्म ने चुटकी लेते हुए कर्नाटक चुनाव में भाग लेने वाले सभी विधायकों को उनके राज्य आकर आराम करने की पेशकश दी है!

Loading...

केरल टूरिज्म ने ट्वीट किया है, ‘कर्नाटक के नतीजों के उतार-चढ़ाव के बीच हम सभी विधायकों को भगवान के देश केरल में सुरक्षित और सुंदर रिसॉर्ट में ठहरने के लिए आमंत्रित करते हैं।’ ट्वीट को अब तक 6 हजार से ज्यादा बार री-ट्वीट किया जा चुका है। नौ हजार से ज्यादा लोग इसे लाइक कर चुके हैं!

Loading...

बता दें, राजनीतिक पार्टियां अक्सर अपने नेताओं को लग्जरी रिजोर्ट में ले जाती हैं, जब उन्हें डर होता है कि कहीं विरोधी पार्टियों उनके नेताओं को तोड़ ना ले। पिछले साल जब तमिलनाडु की राजनीति में उठापटक चल रही थी, तब एआईएडीएमके अपने विधायकों को दो बार छुट्टी मनाने के लिए ले गई थी। ऐसे ही पिछले साल राज्सभा चुनाव से पहले गुजरात में कांग्रेस अपने विधायकों को कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु घुमाने ले गई थी!

अब ताजा ख़बरों के मुताबिक येदियूरप्पा ने राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया है, और कहा है की बहुमत विधानसभा में साबित किया जायेगा! ऐसे में बीजेपी की नजर कांग्रेस और जेडीएस के नव निर्वाचित विधायकों के असंतुष्ट खेमे पर टिकी है!

कांग्रेस के 12 ऐसे विधायक है जो लिंगायत समुदाय से है वो एक लिंगायत को जो की येदियूरप्पा है उन्हें राज्य का CM बनाने के लिए कांग्रेस से बगावत करने को तैयार है, 12 कांग्रेस विधायक अमित शाह और बीजेपी के डायरेक्ट संपर्क में है और अब इसके बाद कांग्रेस में खलबली भी मच गयी है! कांग्रेस इतना घबरा गयी है की उसने अपने सभी विधायको को बेंगलुरु बुलाया है!

loading...