जो कड़वा सच कांग्रेसी नेता मणिशंकर अय्यर ने बोला वो शायद ही कोई और बोल पाता, बताई सोनिया-राहुल की असलियत !

कांग्रेस की आज हो परिस्थति हो गयी है सभी लोग भली भांति परिचित हैं। जिस कांग्रेस ने देश मे आज़ादी के बाद 60 सालों तक राज किया है वो आज 2 राज्यों तक ही सीमित रह गयी है। कई कांग्रेसी दिग्गज नेता कांग्रेस को छोड़कर दूसरी पार्टीयों में शामिल हो रहे हैं। अभी हाल ही में कांग्रेस पार्टी के एक नेता ने राहुल गाँधी को पप्पू कह दिया था। जिसे बाद में पार्टी से निकाल दिया था।

अब कांग्रेस पार्टी के मणिशंकर अय्यर ने बड़ा बयान दे दिया है जिससे एक बार फिर राजनीति में हलचल मचा दी है। दरअसल -कांग्रेस के दिग्गज नेता मणिशंकर अय्यर ने कहा की – कांग्रेस में जब तक मां और बेटे की सत्ता है, तब तक किसी का भला नहीं हो सकता। चाहे जितने भी सक्रिय नेता कांग्रेस में क्यों ना हों, वे अध्यक्ष पद तक कभी नहीं पहुंच सकते हैं। क्योकि कांग्रेस में परिवारवाद शुरू से तय है। यह बात कांग्रेस के पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने कसौली में कही।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस में राहुल गांधी या उनकी मां सोनिया गांधी के अलावा कोई तीसरा नेता अध्यक्ष पद की चाह नहीं रख सकता। यह वंशवाद की परंपरा है, जो शायद कभी खत्म नहीं होगी।

यह वही मणिशंकर अय्यर है जिसने पाकिस्तान में जाकर वहां की सरकार से हाथ जोड़कर कहा था मोदी को हटाने में हमारी मदद कीजिए और हमें लाइये इसके बाद सबसे ज़्यादा दिक्कत वाकई बात यह है कांग्रेस के आलाकमान के लिए की अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं द्वारा भी यह कहा जाने लगा है कि आखिर क्यों मा बेटे की जोड़ी इस पार्टी के लिए बहुत ही घातक है।दरअसल इससे पहले जयराम रमेश भी यह कह चुके हैं कि कांग्रेस के अंदर अभी भी एक परिवार की सुनी जाती है।

अभी हाल ही में कांग्रेस के पूर्व नेता नारायण राणे ने कांग्रेस छोड़ कांग्रेस का बहुत ही बुरा हाल है ऐसा कहा था इसके साथ ही लोगों ने कहा है कि यह बात बहुत ही निराशाजनक है कि कांग्रेस जैसे डूब रही हूं उसका कारण यही मा बेटे हैं और अब कांग्रेस को जल्द ही एक परिवार के चंगुल से बाहर निकालना पड़ेगा।

अय्यर ने यह भी कहा है कि भले ही कांग्रेस उनको ऊना न मानती हो लेकिन वो अब भी कांग्रेस के विचारधारा से जुड़े हैं बल्कि जन्म से ही इससे जुड़े हैं।कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नर यह बात कसौली में बोलते हुए कही की वह कांग्रेस से निराश हैं।

news sourse – amar ujala