वीडियो : मुस्लिम महिलाओं ने “PM मोदी” से की अनोखी मांग, साथ ही RSS के लिए कही ये बड़ी बात- हाँ हम सब जाएंगी RSS की सखाओं में..

मोदी सरकार को मिला मुस्लिम महिलाओं का साथ, अब होगा संपूर्ण विकास! नोटबंदी से कालेधन कुबेरों का अंत करने के बाद अब मोदी सरकार बढ़ती हुई जनसंख्या के नियंत्रण के लिए कानून लाने पर विचार कर रही है! जिसके तहत दो से ज्यादा बच्चे वाले लोगों को सरकारी नौकरी नहीं दी जाने की सजा होगी! भारत की जनसंख्या दिन दूनी रात चौगुनी रफ़्तार से बढ़ती ही जा रही है!

भारत में एक विशेष समुदाय यानि कि मुसलमानों को एक अलग ही क़ानून के तहत चार शादियां करने की छूट भी है, जिसके कारण उनके कई बच्चे होते हैं! मौजूदा खबर अनुसार बता दें कि इस समुदाय में ट्रिपल तलाक जैसी प्रथा भी चलन में है जिसके तहत पति अपनी बेगम को सिर्फ तीन बार तलाक कह देने मात्र से अलग हो जाता है और उसके बाद वो दुबारा किसी और से शादी करने के लिए स्वतन्त्र हो जाता है!

मोदी सरकार ने अब सोच लिया है कि जिस तरह से ट्रिपल तलाक की कुप्रथा को खत्म किया गया था, अब वो मुस्लिम समुदाय की बढ़ती जनसंख्या को नियंत्रण में लाने के लिए जल्द ही जनसँख्या नियंत्रण बिल लाएगी ताकि समाज को सुधारा जा सके!

गौरतलब है कि सुदर्शन न्यूज़ चैनल पर चल रहे एक लाइव डिबेट में जब मुस्लिम महिलाओं से पूछा गया की अब वो प्रधानमंत्री मोदी से ट्रिपल तलाक के बाद कौन सी ऐसी चीज चाहती है जिससे मुस्लिम महिलाओं को राहत मिले!

इसके बाद एक-एक करके महिलाओं ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी हर मुस्लिम महिला के सजे भाई से बढ़कर है! उन्होंने वो किया है जो आजतक कोई इंसान और सरकार न कर सकी! मोदी जी से अब हमारी केवल एक ही मांग है!

बता दें कि मुस्लिम महिलाओं के मुताबिक अब वो मोदी सरकार से केवल जनसँख्या नियंत्रण बिल चाहती है ताकि मुस्लिम समुदाय की बढती जनसंख्या रोकी जा सके!

बताते चलें कि मुस्लिम महिलाओं से जब आरएसएस पर उनके विचार पूछे गए तो उन्होंने कहा कि आरएसएस बहुत ही अच्छा काम कर रही है! वो महिलाओं के हक़ के लिए लडती है और अगर मुस्लिम महिलाओं को जरुरत पड़ी तो वो भी वक़्त आने पर आरएसएस में शामिल हो जाएगी!

मुस्लिम महिलाओं के मुँह से ऐसा जवाब सुनकर देश में मौजूद कट्टरपंथियों की नींद जरुर हराम हो जाएगी! ये बदलाव कांग्रेस के मुँह पर भी किसी तमाचे से कम नही है!

देखिये वीडियो:-