कौन बनेगा PM 2019 : जानिए प्रशांत किशोर के ऑनलाइन सर्वे में कौन चल रहा है आगे?

लोकसभा चुनाव होने में अभी करीब 10 महीने बाकी हैं, ये चुनाव बहुत दिलचस्प होने वाला है क्योकि ये चुनाव मोदी वर्सेस महागठबंधन के बीच होना है। इसको लेकर अलग अलग फोरम के जरिए इस बारे में रुझान हासिल करने की कवायद शुरू हो गई है. ऐसी ही एक कवायद के तहत चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर अपनी वेबसाइट ‘नेशनल एजेंडा फोरम’ पर आम जनता की नब्ज टटोल रहे हैं. ताकि अंदाजा लगाया जा सके की जनता का रुझान किस तरफ है ?

Loading...

प्रशांत किशोर ने इस वेबसाइट पर लोगों से पूछा है कि उनके लिए कौन से मुद्दे महत्व रखते हैं और उनके मनपसंद नेता कौन हैं. इस सर्वे में मनपसंद नेता के तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से पर्याप्त बढ़त बनाए हुए हैं. पीएम मोदी को 41.7% लोग अपना नेता मान रहे हैं, जबकि राहुल गांधी को 19.1% लोग पसंद कर रहे हैं. इस सर्वे में पांच दिन दिन पहले के मुकाबले राहुल गांधी की लोकप्रियता में दो फीसदी की कमी आई है, जबकि पीएम मोदी की लोकप्रियता में पांच प्रतिशत का इजाफा हुआ है.

कौन लेगा प्रशांत किशोर की सलाह
आपको ताज्जुब होगा कि इस सर्वे में तीसरे स्थान पर 9% वोट के साथ अरविंद केजरीवाल हैं, जबकि चौथा और पांचवां स्थान ममता बनर्जी का है. प्रशांत किशोर पीएम मोदी और राहुल गांधी दोनों को चुनाव में अपनी सलाह दे चुके हैं. हालांकि इस बार माना जा रहा है कि बिहार में जेडीयू-बीजेपी गठबंधन के लिए रणनीति बनाने की जिम्मेदारी उन्हें मिल सकती है.

Loading...

प्रशांत किशोर की वेबसाइट पर इस सवाल के साथ ही माना जा रहा है कि उन्होंने लोकसभा चुनाव के लिए अपने अभियान की शुरुआत कर दी है. वो इस सर्वे के रुझानों के आधार पर अपनी रणनीति बनाएंगे. क्योकि 2019 का चुनाव तय करेगा की भारत की जनता किस तरफ है। क्या वो सबका साथ सबके विकास के साथ है या फिर महागठबंधन के साथ। लोग नेशनल एजेंडा फोरम पर लॉग-इन करके अपने मनपसंद नेता का नाम बताने के साथ ही आप ये भी बता सकते हैं कि वो कौन से मुद्दे हैं, जो महत्व रखते हैं.

कब तक चलेगा सर्वे
सर्वे में सबसे अधिक लोगों ने किसानों की समस्याओं को महत्व दिया है. उसके बाद छात्रों और महिलाओं के मुद्दों को लोगों ने महत्व दिया है. ये सर्वे 14 अगस्त तक चलेगा और 15 अगस्त के दिन इसका परिणाम घोषित किया जाएगा. नेशनल एजेंडा फोरम का कहना है कि इस सर्वे में जिस नेता को सबसे अधिक वोट मिलेंगे, उनसे उनकी टीम जाकर मिलेगी और उन्हें उन मुद्दों के बारे में बताएगी, जिन्हें सर्वे में लोगों ने महत्व दिया है. उनकी पार्टी से यह आग्रह भी किया जाएगा कि वो इन मुद्दों को अपने चुनाव घोषणा पत्र में शामिल करें.

loading...