जशोदाबेन को लेकर पूछे गए सवाल पर लेखिका शुभ्रास्था ने दिया ऐसा जबाब की कन्हैया, हार्दिक, शेहला सबकी हो गयी बोलती बंद

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव के प्लेटफार्म पर लेफ्ट और राइट विंग के युवा चेहरों के बिच काफी गरमा गर्मी देखने को मिली! इंडिया टुडे ग्रुप की ओर से आयोजित किये गए इस कार्यक्रम में पहले दिन देश के कुछ बड़े नेताओ ने हिस्सा लिया! तो इस कार्यकर्म के दूसरे दिन कुछ युवा चेहरा मंच पर अपने विचार रखने के लिए आमंत्रित किये गए थे! इनमे गुजरात से आने वाले पटेल आरक्षण से उभरे नेता हार्दिक पटेल, JNU के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार, JNU की पूर्व उपाध्यक्ष शेहला रशीद, BJYM के राष्ट्रीय मीडिया इंचार्ज रोहित चहल और राष्ट्रवादी और लेखिका शुभ्रास्था ने मौजूद थे! इनसबो के बीच जबर्दस्त, गर्मागर्म बहस देखने को मिली!

Loading...

कॉन्क्लेव में बहस के लिए इनका विषय था Identity Politics” (पहचान की राजनीती) इस विषय पर बोलते-बोलते महिला आरक्षण का जिक्र होने लगा, फिर महिला सामान की बात उठी, कन्हैया शेहला ने मुद्दा उठाया की महिलाओ के उत्थान के लिए मोदी सरकार ने क्या किया, महिला आरक्षण बिल को क्यों नहीं पास कराया, फिर शेहला रशीद ने इसमें हिन्दू मुस्लिम भी ले आयी उन्होंने जम्मू कश्मीर में एक बच्ची के साथ हुए रैप की घटना का जिक्र किया और महिलाओ के लिए इन्साफ की बात की!

दूसरी ओर शुभ्रास्था मौजूद थी जिन्होंने बार बार यही कहा की वो भारतीय है और किसी पार्टी से नहीं है लेकिन बीजेपी की बहुत बड़ी समर्थक है! और बिना पक्षपात के सवाल जबाब कर रही थी! इसी बिच अपने आदत से मजबूर JNU के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने हमेशा की तरह पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा की शुभ्रास्था जी आप जरा जशोदाबेन पर बोलेंगी!

Loading...

कन्हैया कुमार के इस सवाल पर शुभ्रास्था ने बेहतरीन जबाब दिया, उन्होंने एक उदाहरण देकर कन्हैया और अन्य पार्टिसिपेट को बताया की मोदी जी सिर्फ एक महिला का ख्याल नहीं रखते वो देश की सभी महिलाओ के लिए काम कर रहे है! आगे शुभ्रास्था ने शेहला रशीद को भी आड़े हाथो लिया और कहा की अपनी बामपंथ की आइडियोलॉजी को छोड़कर महिलाओ के लिए कुछ करने का सोचिये! इसके बाद मंच मौजूद हार्दिक पटेल की बारी थी, जिन्हे शुभ्रास्था ने जात-पात की राजनीती से ऊपर उठकर एक हिंदुस्तानी बनने की नशीहत दी!

देखिये शुभ्रास्था जी का ये वीडियो:

loading...