ये कोई आम नक्शा नहीं है- देखकर उड़ जायेंगे आपके होश, सामने आया मोदी सरकार का एक और कारनामा!

मोदी ने सत्ता में आते ही जितने बड़े निर्णय लिए थे, शायद स्वच्छ भारत अभियान उनमें से सबसे महत्वपूर्ण था| क्योंकि ये पूरी तरह देश के लिए समर्पित था और देशवासियों की इसमें भागीदारी भी जरूरी थी| और फिर शुरू हुआ अटकलों का सिलसिला, कि आग़ाज़ तो हो चुका है, अब देखें ऊँट किस करवट बैठता है! तो मतलब मोदी जी की ये महत्वकांक्षी योजना उसी दिन से भारत और संसार की कसौटी पर आ गयी थी!

मोदी ने सत्ता में आते ही जितने बड़े निर्णय लिए थे, शायद स्वच्छ भारत अभियान उनमें से सबसे महत्वपूर्ण था! क्योंकि ये पूरी तरह देश के लिए समर्पित था और देशवासियों की इसमें भागीदारी भी जरूरी थी! और फिर शुरू हुआ अटकलों का सिलसिला, कि आग़ाज़ तो हो चुका है, अब देखें ऊँट किस करवट बैठता है! तो मतलब मोदी जी की ये महत्वकांक्षी योजना उसी दिन से भारत और संसार की कसौटी पर आ गयी थी!

स्वच्छ भारत अभियान रिपोर्ट की भी आ गयी है और आई भी बड़ी शानदार है! हाल ही में स्वच्छ भारत के ऑफिसियल ट्विटर हैंडल पर ‘स्वच्छ भारत मिशन’ का पिछले पांच वर्ष का लेखाजोखा शेयर किया गया! ये मिशन पूरी तरह से कामयाब रहा है और इसका ग्राफिकल स्ट्रक्चर कुछ ऐसा है:

हालांकि शुरूआती सालों में इसका इतना प्रभाव नहीं दिखा, लेकिन 2015-16 और 2016-17 में ये मिशन क्रमशः 6% और 9% कि बढ़ोतरी के साथ आगे बढ़ा! इसके बाद एक और ट्विटर हैंडल से भी इंडिया में 2014 से 2017 के बीच बने कुल शौचालयों का ब्यौरा दिया गया है!

और यदि हम सटीक आंकड़ों की बात करें, तो इन तीन वर्षों के समय में भारत सरकार 3,88,49,539 शौचालय बनवा चुकी है, जो कि अपने आप में एक बड़ी उप्ल्ब्धी है! और ऊपर दिए आंकड़े बताते हैं कि मोदी का स्वच्छ भारत मिशन अब तक पूरी तरह कामयाब रहा है और आगे भी उसी तेज़ी से बढ़ रहा है!

और शायद इसकी सफलता का सबसे बड़ा राज ये है कि ये योजना छोटे बड़े सभी वर्ग के लोगों के लिया अहम है! असली मकसद सफाई और गन्दगी-मुक्त भारत है और हम यदि ऐसे काम में ही सरकार का साथ नहीं देंगे, तो शायद कभी भी न दे सकें!

ये भी पढ़े:- क्या आप जानते हैं? सडक के किनारे लगे दुरी बताने वाले पत्थरों के नारंगी, हरे, पिले और काले रंगो का मतलब!