Viral Sach: मोदी के ईरान की कर्ज चुकाने वाली खबर की सच्चाई जरूर जानें

नई दिल्ली: मोदी जी के द्वारा ईरान का कर्ज चुकाने की खबर कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है! जिसकी पड़ताल ABP न्यूज़ ने अपने कार्यक्रम वायरल सच के जरिये किया है, चलिए देखते है क्या वाकई में मोदी जी ने कांग्रेस की UPA सरकार के दौरान हुए कर्ज को चुकाया है! आपको बता दे की पिछले महीने मोदी जी दो दिनों के ईरान के दौरे पर गए थे, और दोनों देशो के बिच कई अहम समझौतों पर सहमति बानी और रिश्तों में मजबूती आई है! ईरान ने भी मोदी जी का गर्मजोशी से स्वागत किया था! और अब जब मोदी जी सवदेश लौटकर अप्पने काम काज में व्यस्त हो चुके है तो एक मैसेज जोर सोर से वायरल हो रही है!

मैसेज के जरिये खबर फैलाई जा रही है की मोदी जी ने ईरान को खुश कर दिया, जिसकी वजह है मोदी ने ईरान के तेल का बकाया राशि को चुकता कर दिया है! दरअसल मुख्य कारन यह है की विश्व बाजार में कच्चे तेल की कीमत कम होने के वावजूद भी भारत सरकार ने देश में तेल की कीमतों को कम क्यों नहीं किया और आम जनता को इसका लाभ क्यों नहीं मिला!
.
viral-abp
ABP न्यूज़ का वीडियो निचे देखे

वायरल मैसेज में लिखा गया है की भारत सरकार देशवाशियो को तेल की गिरती कीमतों का फायदा इसलिए नहीं दे पाई क्युकी भारत पहले से ही UPA सरकार द्वारा किये गए तेल के कर्जो के बोझ तले दबा हुआ देश है! और भारत ईरान से प्रतिदिन लगभग 5 लाख बैरल तेल लेता है और कांग्रेस सरकार ने 4 साल पहले से तेल की कीमतों का भुगतान नहीं किया था क्युकी ईरान पर प्रतिबन्ध लगने के बाद से कोई भी देश वहां से तेल ले सकता था लेकिन राशि का भुगतान नहीं कर सकता था! जिस कारन से ईरान का बकाया राशि 43 हज़ार करोड़ हो चूका था!

प्रधानमंत्री ने ईरान के दौरे से पहले जो बकाया राशि था उसकी पहली क़िस्त ईरान को चूका दी थी, इस वायरल मैसेज का सच जानने के लिए जब ABP न्यूज़ ने बीजेपी के एनर्जी सेल के राष्ट्रीय सयोजक नरेंद्र तनेजा से बात की तो पता चला की प्रधानमंत्री के ईरान दौर से पहले भारत ने कर्ज की एक क़िस्त चुकाई है और ये वो कर्ज है जो कांग्रेस की UPA सरकार के वक़्त हुआ था!

पेट्रोलियम एक्सपर्ट नरेंद्र तनेजा ने बताया की यही वजह है की सरकार तेल की गिरती कीमतों के बाद भी देश में तेल के दाम कम नहीं कर प रही है! और जब ईरान से तेल लिया गया था तब बकाया राशि थी 43 हज़ार करोड़ रुपये लेकिन अब ईरान इस रकम की अदायगी आज के यूरो के दाम के हिसाब से चाहता है, तो जाहिर सी बात है की कर्ज और बड़ा हो गया है! उन्होंने बताया की कर्ज की पहली क़िस्त के रूप में सरकार ने ईरान को ५ हज़ार करोड़ रुपये का भुगतान किया है!

खबरों के मुताबिक ईरान का ये कर्ज का मुद्दा इतना गम्भीर हो चूका था की प्रधानमंत्री मोदी को इसमें दखल देना पड़ा था और ईरान के साथ रिश्ते सुधारने के लिए हर संभव प्रयास करना पड़ा!

एबीपी न्यूज की पड़ताल में वायरल हो रहा ये मैसेज सच साबित हुआ है, देखे ये 3 मिनट का पूरा वीडियो


Video & News Soure